तीन अफ्रीकी देशों की यात्रा पर निकले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब दौरे के अंतिम पड़ाव पर हैं. गुरुवार को प्रधानमंत्री ने 10वें ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लिया और इसे संबोधित भी किया. ब्रिक्स देशों की बैठक से इतर पीएम मोदी ने यहां जोहानिसबर्ग में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से द्विपक्षीय वार्ता भी की. हाल के दिनों में हुई ये तीन बड़े देशों की दूसरी मुलाकात है. कुछ ही महीने पहले पीएम मोदी रूस और चीन की यात्रा पर गए थे.

गुरुवार को प्रधानमंत्री मोदी ने ब्रिक्स बैठक के बाद चीनी राष्ट्रपति से द्विपक्षीय वार्ता की. विदेश मंत्रालय के अनुसार, दोनों नेताओं ने बॉर्डर की स्थिति पर विस्तृत रूप से बात की और ये तय किया कि दोनों देशों की सेनाओं को सीमा पर शांति बनाने की कोशिश करनी चाहिए. मोदी ने बैठक की शुरूआत में शी से कहा, ‘इस रफ्तार को बनाए रखना जरूरी है और इसके लिए हमें अपने स्तर पर नियमित रूप से अपने संबंधों की समीक्षा करनी चाहिए और जब भी जरूरत हो उचित निर्देश देने चाहिए.’ उन्होंने कहा कि आज की बैठक से दोनों देशों की करीबी विकास सहभागिता को और मजबूत करने का एक और मौका मिला.

इसके अलावा पीएम ने भारत की ओर से निर्यात का मुद्दा भी उठाया.

भारत चीन से काफी मात्रा में आयात करता है लेकिन निर्यात की मात्रा कम है, मोदी सरकार इस अंतर को कम करना चाहती है. आने वाले 1-2 अगस्त को भारत का एक डेलिगेशन इस मसले पर बात करने चीन जाएगा.

पीएम नरेंद्र मोदी ने किया ट्वीट

“Always a delight to meet President Xi Jinping. Our talks were fruitful and will add vigour to the ties between India and China.”

आपको बता दें कि इसी साल अप्रैल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक इन्फॉर्मल समिट के तहत चीन गए थे. चीन के वुआन में दोनों देशों के सर्वोच्च नेताओं ने कई मसलों पर बात की थी, ये मुलाकात बिना किसी एजेंडे की थी. यही कारण रहा कि दोनों देशों ने हर मुद्दे पर बिना झिझक के अपनी बात रखी. जिनपिंग से मुलाकात के दौरन भी पीएम ने दोनों देशों के रिश्तों पर बात की.

और क्या बातचीत हुई दूसरे देशो से: जानिए BRICS सम्मेलन में पीएम मोदी ने किन विषयो पर की चर्चा

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के अलावा पीएम मोदी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से भी मिले. इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि सोची यात्रा के दौरान जिस तरह उन्होंने उनका स्वागत किया था, वह उनके शुक्रगुजार हैं.

पीएम मोदी और पुतिन ने एक दूसरे को भरोसा दिलाया कि दोनों देश भविष्य में भी साथ मिलकर काम करेंगे. गौरतलब है कि चीन यात्रा की तर्ज पर प्रधानमंत्री मोदी ने रूस के सोची की यात्रा की थी और इन्फॉर्मल समिट में हिस्सा लिया था.

पीएम नरेंद्र मोदी ने किया ट्वीट

“Wide-ranging and productive talks with President Putin. India’s friendship with Russia is deep-rooted and our countries will continue working together in multiple sectors. @KremlinRussia”

बता दें कि दक्षिण अफ्रीका दूसरी बार ब्रिक्स सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है. ब्रिक्स सम्मेलन में वैश्विक मुद्दों, अंतरराष्ट्रीय शांति एवं सुरक्षा, वैश्विक शासन और व्यापार संबंधी मुद्दों समेत कई मामलों पर चर्चा हुई. इस दौरान पीएम ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग समेत ब्रिक्स के कई अन्य नेताओं से मुलाकात की. ब्रिक्स समूह में ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका शामिल हैं.

ब्रिक्स शिखर सम्मेलन 2018 की थीम:

‘अफ्रीका में ब्रिक्स: चौथी औद्योगिक क्रांति में समावेशी विकास और साझा समृद्धि के लिए सहयोग’

मुख्य विषय थे:

10 वीं ब्रिक्स शिखर सम्मेलन से पहले मुख्य मुद्दों में व्यापक रूप से बहुपक्षवाद, वैश्विक शासन, स्वास्थ्य और टीकों, महिलाओं के सामाजिक-आर्थिक सशक्तिकरण, शांति नियंत्रण, विज्ञान नेटवर्क, पार्क और प्रौद्योगिकी, समावेशी विकास, सतत विकास और आधारभूत संरचना शामिल थे ।

एक खराब वैश्विक व्यापार युद्ध का खतरा ब्रिक्स शिखर सम्मेलन 2018 के मैन एजेंडे था.

पहली बार, एक ब्रिक्स नेताओं की वापसी का आयोजन किया गया था जहां नेता जानबूझकर दशकों के दौरान और भविष्य की संभावनाओं पर ब्रिक्स सहयोग का स्टॉक लेना था.

For all types of News, Latest News and Breaking News from the world of Politics stay tuned to blogs.netaaji.com and also bookmark this page for instant news.

If you want to know more about your favourite politician then visit Netaaji.com