आगामी 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया है कि फेसबुक अब यहां पर फैलने वाली अफवाहें और झूठी खबरों को रोकेगा । जिसका मतलब है की 2019 चुनाव को लेकर पार्टियां ही नहीं सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म भी एक्टिव हो गया है।
फेसबुक अपने यहां होने वाले पोस्ट, वीडियो के तथ्यों की जांच भी करेगा। अगर वह गलत पाए जाते हैं तो उन्हें फेसबुक से तत्काल हटा दिया जाएगा। ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों को कोई प्रभावित न कर सके।
बता दें कि फेसबुक एक ऐसा प्लेटफार्म है जिस पर लोग सबसे ज्यादा एक्टिव रहते है इसलिए इसे कोई भी हथियार बना लेता है लोगो के विचारो को डाइवर्ट करने का। खासतौर पर यह परिक्रिया चुनाव के दौरान ज्यादा एक्टिव हो जाती है। लोगों या चुनावी कार्येकर्ता अपनी फेक न्यूज और वीडियो के माध्यम से लोगों को बहकाने का काम करता है। इसलिए इसे रोकने के लिए फेसबुक ने कड़े कदम उठाए हैं। फेसबुक पर फेक कंटेंट पाए जाने पर उसे ब्लॉक भी कर दिया जाएगा।

फेसबुक अब एक ऐसा सिस्टम लागू कर रहा है कि जो भी पोस्ट यहां प्रचार और प्रसार के लिए डाला जाएगा उसे उनका सिस्टम खुद पहले सच्चे तत्थ्यो के हिसाब से जाँच करेगा। यह सिस्टम ऑटोमेटिक ही उस सामग्री की जांच करेगा। जानकारी के मुताबिक प्रचार प्रसार के लिए फेसबुक पर डाली गई सामग्री को चुनाव आयोग के पास भी जांच के लिए भी भेजी जाएगी । यही नहीं इसके अलावा और सोशल मीडिया प्लेटफार्म जैसे कि ट्विटर और व्हाट्सएप, यह भी फेक न्यूज रोकने के लिए कड़े कदम उठा रहे हैं।

सोशल मीडिया में फैल रही झूठी खबरों से आम आदमी ही नहीं, बल्कि प्रधानमंत्री वह अन्य भाजपा के अधिकारी भी परेशान है।
भाजपा का कहना है कि कुछ लोग साजिशन सोशल मीडिया पर पार्टी और सरकार के बारे में गलत प्रचार कर रहे हैं। इन झूठी खबरों से पार्टी को बचाने के लिए ऐवम जनता तक ‘सच’ पहुंचाने के लिए पार्टी ने इसका विकल्प निकला है . इस रणनीति के तहत भाजपा दिल्ली में अपने कुछ कार्यकर्ताओं की एक टीम तैयार कर रही है जो सरकार के कामों की सही जानकारी सोशल मीडिया के माध्यम से जनता तक पहुंचाएगी।

एक पार्टी कार्यक्रम के दौरान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने इस परेशानी का जिक्र किया था। उसके बाद केंद्रीय आईटी टीम को इस मुद्दे पर सक्रिय किया गया और तब से लगातार सोशल मीडिया पर सरकार के कामों की जानकारी दी जा रही है।

परन्तु दिल्ली जो कि केंद्र है भारत का, इसके लिए नई टीम पूरी तरह दिल्ली के लोगों को ध्यान में रखकर बनाई गई है। पार्टी का मानना है कि दिल्ली में पूरे देश के लोग रहते हैं और यह सबसे मुख्य टारगेट होते है चुनावों में . अगर वह यहां के लोगों तक अपनी पहुंचाने में सफल हो जाती है तो उसका असर पूरे देश में पहुंच जाएगा। जानकारी के मुताबिक यह नई टीम दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी की पहल पर बनाई गई है और यह टीम पूरी तरह उनकी निगरानी में काम करेगी।

‘नरेंद्र मोदी 2019 तक’ की थीम के साथ 7 जुलाई से यह टीम काम करना शुरू करेगी। एक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया है जहां इसके कार्यकर्ताओं को जानकारी देने के लिए शनिवार को बुलाया गया है. इस आयोजन में आईटी के कुछ तकनीकी पेशेवरों के अलावा पार्टी के केंद्रीय टीम के कुछ नेता भी शिरकत कर सकते हैं। जानकारी के मुताबिक इस टीम के कार्यकर्ता सरकार की योजनाओं के असली लाभार्थियों को सामने लाकर उनके माध्यम से मोदी सरकार की योजनाओं की जानकारी लोगों तक पहुंचाएगी।

For all types of News, Latest News and Breaking News from the world of Politics stay tuned to blogs.netaaji.com and also bookmark this page for instant news.